नई दिल्ली 05, Dec 2022

लेख

1 - बीजेपी आप में काँटे की टक्कर

2 - सीमित व्यवस्था के बावजूद धूम-धाम से हो रही है छट माइय्या की पूजा

3 - जहाँ आज भी पुजा जाता है रावण

4 - एक बार फिर माया नगरी हुई गणपतिमय

5 - एक बार फिर लहराया तिरंगा लाल किले की प्राचीर पर

6 - बलवाइयों एवं जिहादियों के प्रति पनपता सहनभूतिक रुख

7 - आजादी के अमृत महोत्सव की कड़ी के रूप में मनाया जा रहा है 8 वाँ विश्व योग दिवस

8 - अपने दिग्गज नेताओं को नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी

9 - ज्ञान व्यापी मस्जिद के वजु घर में शिवलिंग मिलने से विवाद गहराया

10 - आखिर क्यूँ मंजूर है इन्हे फिर से वही बंदिशें.....

11 - पाँच में से चार राज्यों में लहराया कमल का परचम

12 - पेट्रोलियम, फर्टिलाइजर एवं खाद्य सामाग्री पर मिलने वाली राहत में लगभग 27 फीसदी की कटौती

13 - जे&के पुलिस के सहायक उप निरीक्षक बाबूराम शर्मा मरणोपरांत अशोक चक्र से संमानित

14 - आखिर कौन होंगे सत्ता के इस महाभोज के सिकंदर

15 - ठेके आन फिटनेस सेंटर ऑफ छा गए केजरीवाल जी तुस्सी

16 - मुख्य सुरक्षा अधिकारी हुए पंचतत्वों विलीन

17 - दिल्ली में यमुना का पानी का बीओडी लेवेल 50 के पार

18 - फूक के कदम रखिए वरना हो सकता है आपका भी अगला नंबर

19 - महंत नरेंद्र गिरी की मौत पर लगे सवालिया निशान

20 - अकाली दल बादल ने लगाई हैट्रिक

21 - सबके साथ,सबके विकास,सबके विश्वास एवं सबके प्रयास से ही लक्ष्य प्राप्ति संभव

22 - जबरन कराया गया बच्ची का अंतिम संस्कार

23 - सिने जगत के ट्रेज्डी किंग को देश का आखरी सलाम

24 - कोरोना से जंग मे योग ही एक आशा की किरण

25 - संक्रमण काल का मंत्र फिट रहें दुरूस्त रहें

26 - एक बार फिर लहराया पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस का परचम

27 - हिंसा एवं टकराव की बिसात पर बंगाल की राजनीति

28 - ट्रेक्टर रैली के नाम पर बलवाइयों का तांडव

29 - 72 वें गणतंत्र दिवस का आकर्षण राम मंदिर की झांकी

30 - किसान आंदोलन का रूख कहीं पंजाब में संभावित चुनाव तो नहीं

31 - बिहार में फिर एक बार यूपीए का परचम

32 - बिहार में इस बार का चुनावी मुद्दा है विकास

33 - जातिगत एवं सांप्रदायिक एंगल से चमकती राजनीति

34 - हाथरस मामले में तुष्टिकरण की राजनीति

35 - गणपति बप्पा मोरया पुढ़ल बरस तू लोकर आ

36 - बालीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत हत्या या आत्महत्या

37 - आत्मनिर्भर भारत देश के लिये महामंत्र

38 - भूमि पूजन के साथ शुरू हुई राम लला के गृह निर्माण की तैयारी

39 - उत्तर एवं पूर्वोत्तर भारत पर छाया प्राकृति का प्रकोप

40 - साइबर वार ने लिया खतरनाक मोड़

41 - सीमा तनाव के पीछे चीन की दोहरी मानसिक्ता

42 - कोरोना संक्रमण काल में भी सक्रिय है पासों की बिसात पर राजनीति

43 - अनानास मे विस्फोटक पदार्थ डालकर हाथी की हत्या

44 - उड़ीसा एवं वेस्ट बंगाल में तबाही का मंजर

45 - जारी है प्रवासी मजदूरों का भारी संख्या में पलायन

46 - कश्मीर में आज भी सक्रिय जहिादी गतिविधियाँ

47 - परस्पर सदभाव संवाद एवं शांति से होगी कोविड 19 पर विजय

48 - पालघर हत्याकांड की सीबीआई जाँच की माँग

49 - समरथ को नहीं दोष गोसाई

50 - जिला एवं तहसील स्तर पर प्रकाशनों की दुर्दशा का भी जरूरी है संज्ञान

अपने दिग्गज नेताओं को नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी

 हाल ही में उदयपुर में नव निरवाण शिवर के आयोजन के बावजूद भी नहीं संभाल पाई कांग्रेस पार्टी  अपने दिग्गज नेताओं को । पहले हार्दिक पटेल फिर सुनील जाखड़ और अब कपिल सिब्बल ने किया कांग्रेस को गुड बाये । तीनों की ही  गिनती कभी पार्टी में कद्दावर नेताओं के रूप में होती थी । गुजरात से कभी पाटीदारों के नेता कहे जाने वाले हार्दिक पटेल की एंट्री पार्टी में हाल ही में हुई थी  उनका इतिहास कुछ ज्यादा पुराना नहीं चंद साल पुराना है लेकिन सुनील जाखड़ की तीन पीढ़ियां पार्टी को समर्पित थीं । उनका स्वयं का इतिहास पार्टी में 30 साल पुराना  है । वह पंजाब कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष  एवं पंजाब विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष की भूमिका निभा चुके हैं ।

और यदि बात पेशे से वकील कपिल सिब्बल की कही जाये तो  उनकी गिनती पार्टी के तेज तरार नेता के रूप में होती थी वह पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं कांग्रेस शासन काल में केंद्रीय मंत्री पद का दायित्व निभा चुके है । वह राम जन्म भूमि मामले में एडवोकेट प्रतिपक्ष एवं अन्य कई राष्ट्रीय मुद्दों के लिए मीडिया की सुर्खियों में  रहे हैं ।  सुनील जाखड़ ने बीजेपी एवं कपिल सिब्बल के समाजवादी पार्टी  ज्वाइन करने के समाचार मिले हैं । हालांकि कपिल सिब्बल का कहना है कि उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के रुप में राज्य सभा का नामांकन पत्र दाखिला किया है एवं समाजवादी पार्टी उन्हें समर्थन दे रही है । और यदि बात हार्दिक पटेल की की जाये तो उनका रुख अभी क्लियर नहीं है । आखिर ऐसा क्या हुआ कि सीमित अंतराल मे तीन नेता क्रमवार इस्तीफा देने को मजबूर हुए । यदि इनकी सुनी जाए तो पार्टी खुद ही द्वारा निर्धारित मानदंडों से डगमगा गई है। कहीं ना कहीं अभिव्यक्ति की आजादी का अभाव है । या कहिये शीर्षस्थ नेता उनकी बातों को तवज्जु नहीं देते । एक घुटन सी महसूस होती है। फिरकापरस्ती की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता ।

बात अभिव्यक्ति की आजादी की हो या  फिर फिरकापरस्ती की कहीं न कहीं अब जरूरी समय अनुसार पार्टी में ढाँचागत बदलाव...... 

01:36 pm 25/05/2022

संपादक

डा. अशोक बड़थ्वाल

Mobile : 91-9811440461

editor@dhanustankar.com

Slideshow

समाचार

1 - संत ईश्वर साधकों की गौरव गाथा समाज के लिऐ बनेगी प्रेरणा स्त्रोत

2 - चारा घोटाले की तर्ज पर दिल्ली में मजदूर घोटाला

3 - सरना ने बताया बीजेपी आम आदमी पार्टी को एक ही सिक्के के दो रूप 

4 - लव जिहाद को लेकर बजरंग दल विश्व हिंदू पार्षद का दिसंबर में व्यापक अभियान

5 - आंखों में काली मिर्च का स्प्रे झोककर होती थी झपटमारी

6 - मध्य प्रदेश में वर्ल्ड सिख चेंबर ऑफ कामर्स का 22 वाँ क्षेत्रीय अध्याय

7 - बीजेपी का चुनावी घोषणा पत्र जन आकांक्षाओं का संकलन

8 - निगम चुनावों के मद्देनजर वीएचपी का हिंदू मांग पत्र

9 - भोगल फिर एक बार अकाली दल में

10 - पीछे का माफ एवं आगे का हाफ प्रॉपर्टी टेक्स करने से बढ़ सकता है निगम का रेवन्यू

11 - निगम चुनाव के मद्देनजर चाँदनी चौक में संयुक्त प्रशासनिक मार्च

12 - मेरी चमकती दिल्ली कांग्रेस का विजन डॉक्यूमेंट

13 - 14 जगहों पर बीजेपी का विजय संकल्प रोड शो

14 - प्रदेश मुख्यालय में आज रहा घर वापसी का दौर

15 - बंदी सिंह रहेगा शिरोमणी अकली दल का चुनावी मुद्दा

16 - दिल्ली को जुमलेबाजी की जगह काम की जरुरत

17 - एक बार फिर से चुने गये धामी एसजीपीसी के अध्यक्ष

18 - सकारात्मक सोंच के तहत किया जायेगा 18 महीषियों /संस्थाओं को सम्मानित

19 - गाजीपुर कूड़े के पहाड़ की ऊंचाई कम दिखाने के लिये खाली मैदान में भरा जा रहा है कूड़ा

20 - जेल में बंद दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन क्यूँ नहीं अबतक हुये बर्खास्त

21 - ऑपरेशन शैडो के तहत दक्षिण दिल्ली में 17 अपराधों की गुत्थी सुलझी

22 - दिल्ली के 250 निगम वार्डों में चुनाव लड़ेगी शिरोमणी अकाली दल

23 - विश्व हिंदू परिषद का व्यापक हित चिंतक अभियान

24 - जेहादियों द्वारा 8 वर्षीय बच्ची की हत्या के विरोध में हिंदू महापंचायत

25 - 2000 करोड़ खर्च करने के बावजूद आज भी है यमुना प्रदूषित

26 - यमुना में अमोनिया फासफोरस की झाग खत्म करने के लिऐ जहरीले कैमिकल के इस्तेमाल का आरोप

27 - किंग्सवे कैम्प पुलिस लाइन में याद किया गया जवानों की शहादत को

28 - जिहादियों द्वारा की जा रही नृशंस हत्याओं के विरोध में हिंदू जागृति मार्च

29 - नवनिर्वाचित कार्यकारिणी की तरफ से सरना ने दिया बादल गुट को शामिल होने का न्योता

30 - कहीं न कहीं सनातन सेंसर बोर्ड है जरूरी

31 - नागरिकों के लिये सायबर स्वच्छता

32 - गाँधी जयंती पर कांग्रेस करेगी दलित-अल्पसंख्यक महासम्मेलन का आयोजन

33 - पीएफआई पर लगाया गृह मंत्रालय ने पाँच साल के लिये प्रतिबंध